The Changing Strategic Scenario of the Indian Ocean - General Overview with special reference to India and China

हिन्द महासागर का बदलता रणनीतिक परिदृश्य-भारत एवं चीन के विशेष संदर्भ में सामान्य अवलोकन

Authors

  • Shivangi Singh Research Scholar, Department of Political Science, University of Rajasthan, Jaipur (Raj.)

DOI:

https://doi.org/10.31305/rrijm.2022.v07.i04.013

Keywords:

Indian Ocean, Strategic, Globalization, Maritime Power

Abstract

The rise of China as a powerful nation is an important event of the 21st century, which has given a new momentum and direction to the balance of power of the world by changing all the earlier paradigms of not only Asia but also the global power-structure. In order to achieve the status of the world's best power, while China has made every effort to encircle its Asian competitor India, on the one hand, in the current context of globalization and economic liberalization, maritime transmission has been done to fulfill its economic and trade interests. In every effort to control the routes, prompt steps have been taken. China has laid special emphasis on its strategic-economic relations with regional nations to control all the important meeting points of the Indian Ocean, the Strait of Malacca, the Persian Gulf, Web-el-Mendeb and the Suez Canal.

Abstract in Hindi Language:

चीन का एक शक्तिशाली राष्ट्र के रुप में उदय 21वीं शताब्दी की महत्त्वपूर्ण घटना है, जिसने न केवल एशिया, अपितु वैश्विक शक्ति-संरचना के समस्त पूर्व प्रतिमानों को परिवर्तित करके विश्व के शक्ति सन्तुलन को एक नई गति व दिशा प्रदान की है। विश्व की सर्वश्रेष्ठ शक्ति का दर्जा प्राप्त करने के लिए व्यग्र चीन ने जहां एक ओर अपने एशियाई प्रतिस्पर्धी भारत की सामरिक घेरेबन्दी का हर सम्भव प्रयास किया है, वहीं वैश्वीकरण और आर्थिक उदारीकरण के वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अपने आर्थिक एवं व्यापारिक हितों की पूर्ति के लिए सामुद्रिक संचरण मार्गों पर नियन्त्रण की हर सम्भव कोशिश में त्वरित कदम उठाए हैं। चीन ने हिन्द महासागर के सभी महत्त्वपूर्ण मिलन स्थलों मलक्का जलडमरुमध्य, फारस की खाड़ी, वेब-एल-मेन्डेब व स्वेज नहर पर नियन्त्रण के लिए क्षेत्रीय राष्ट्रों के साथ अपने सामरिक-आर्थिक सम्बन्धों पर विशेष बल दिया है।

Keywords: हिन्द महासागर,सामरिक, वैश्वीकरण ,सामुद्रिक शक्ति।

References

अमरावती मल्लपा, ‘‘चाइना, इंडिया एण्ड जापान, दाॅ रिव्यू आॅफ देकर रिलेशन्स, ए. बी. डी. पब्लिशर्स, जयपुर, 2004, पृ. 42

भारद्वाज. एस.एम, ‘‘भारत-चीन सम्बन्ध - एक अवलोकन’’ न्यू प्रभात प्रकाशन, मेरठ 2004 पृ. 9

गार्बर, जे. डब्ल्यू., ‘‘प्रोटेक्टेड कन्टेस्ट; साइनो इण्डियन काॅन्फिलिक्टस इन द ट्वन्थीज सेन्चुरी’’, आॅक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, नई दिल्ली, 2011, पृ. 11

क्लूनबर्ग एस. और चक्रवती ए., ‘‘ट्रांजिसन एण्ड डेवलपमेंट इन इण्डिया,’’ मार्गलेज, न्यूयाॅर्क, 2013, पृ. 22

अभिनंदन. नेताजी, ‘‘चीन के साथ भारत के संबंधः बाधाएँ एवं चुनौतियाँ,’’ वल्र्ड फोकस, सितम्बर 2013, पृ. 139

पंत पुष्पेश, ‘21वीं सदी में अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध’’ मैग्रा प्रकाशन, नई दिल्ली-2015 पृ. 112

पांडा. स्नेहलता, अभयमुख भारत-चीन संबंधः विश्वास की कमी की मिसाल,’’ वल्र्ड फोकस, मार्च 2014, पृ. 90

हिन्दुस्तान टाईम्स, जनवरी 2017, पृ. 83

इण्डिया टूडे, दिसम्बर 2017, पृ. 72

Downloads

Published

15-04-2022

How to Cite

Singh, S. . (2022). The Changing Strategic Scenario of the Indian Ocean - General Overview with special reference to India and China: हिन्द महासागर का बदलता रणनीतिक परिदृश्य-भारत एवं चीन के विशेष संदर्भ में सामान्य अवलोकन . RESEARCH REVIEW International Journal of Multidisciplinary, 7(4), 97–100. https://doi.org/10.31305/rrijm.2022.v07.i04.013